07 वां पड़ाव गाँव कुहावनी

17 May 2017 to 18 May 2017

आज पुनः हम लेकर आए हैं, SBGBT की 7वीं यात्रा का पडाव गाँव कुहावनी से। कुहावनी बाडी तहसील से पश्चिम की ओर 4-5 किमी दूर मुख्य रास्ते पर अवस्थित सुन्दर और असाधारण गाँव है। यहाँ के लोग बडे ही सहिष्णु और सरल स्वभाव के हैं। SBGBT के मुख्य पथ प्रदर्शक, आशीष स्रोत, धर्म मर्मज्ञ व प्रवचक, महाज्ञानी, पूजनीय गोविन्द गुरू जी(प्रधानाचार्य) इसी गाँव के हैं।
इन्हीं की प्रेरणा और आशीर्वाद के फलस्वरूप SBGBT इस मुहिम को अंजाम तक पहुंचाने में सफल हुई। SBGBT इनके अनुग्रह की सदा अभिलाषी है।

सिंगोरई गॉव भी कुहावनी से कुछ ही दूरी पर स्थित है। जो एकता, स्नेह, समर्पण और सहयोग की भावना इन दोनों गाँवों में सदियों से कायम थी, बदलते वक्त, राजनीतिक परिस्थिति और व्यक्तिगत महत्वकांक्षाओं के चलते आज सबकुछ विपरीत है। इसी के चलते SBGBT को दोनों गाँवों में अगल-अलग बैठकें करने पर विवश होना पड़ा। SBGBT अनेक प्रयासों के बाद भी दोनों गाँवों को एक मंच पर लाने में असमर्थ रही, जिसका हमें भारी खेद है| फिर भी हम आशा करते हैं, कि दोनों गाँवों के मध्य एक दिन अवश्य पूर्व की भाँति समरसता और सद्व्यवहार स्थापित होगा। मीटिंग के दौरान प्रकाश में आईं कुछ महत्वपूर्ण बातें इस प्रकार हैं -

1 सर्वप्रथम माननीय गोविन्द गुरु जी ने गाँव का प्रतिवेदन प्रस्तुत कियाl प्रतिवेदन के अनुसार कुहावनी गाँव धौलपुर के प्राचीनतम गांव में से एक है|

2 गांव में सभी जातियों के लोग आपसी मेलजोल और भाईचारे के साथ रहते हैं| सभी जातियों के लगभग 170 घर हैं जिसमें से कुल कर्मचारियों की संख्या 105 के लगभग है।

3 स्थानीय इष्ट देवताओं की मान्यता के फलस्वरूप यहाँ के लोग दारू, मीठ-मदिरा आदि दुर्व्यसनों से मुक्त हैं। धार्मिक आस्था के प्रतीक इस गाँव में इतने मंदिर बने हुए हैं, कि इसे ‘मंदिरों का गाँव’ कहना अतिशयोक्ति नही होगी।

शैक्षिक क्षेत्र में उत्तरोत्तर उन्नति करता ये गाँव स्मार्ट विलेज बनने की पंक्ति में खडा है। तमाम दुर्व्यसनों के प्रकोप से खुद को सुरक्षित बनाए रखने में सक्षम, इस गाँव ने एक बेहतरीन मिसाल प्रस्तुत की है। इस गाँव के बुजुर्ग और युवाशक्ति SBGBT के प्रत्येक अभियान को सफल बनाने में बखूबी अपनी भागीदारी निभाते रहे हैं।
ग्रीन विलेज-क्लीन विलेज, आओ पढें-आगे बढें, एक कदम स्वच्छता की ओर, शिक्षा पाओ ज्ञान बढाओ, वृक्षारोपण आदि तमाम अभियान इस गाँव के कार्यकर्ताओं ने अंजाम तक पहुंचाए हैं।
हम आशा करते हैं, कि युग परिवर्तन की इस धारा में इस गाँव के लोग इसी सद्भाव और समर्पण के साथ SBGBT को हमेशा संबल प्रदान करते रहेंगे।

अगले 8वे पड़ाव की कहानी गाँव उमरेह से शीघ्र ही आपके सामने लेकर आएंगे। इसी के साथ आप सभी सज्जनों का हार्दिक आभार और अनंत मंगलकामनाएं।
धन्यवाद।